राहत: केंद्र सरकार खाने-पीने का तेल भी सस्ता करने जा रही है, जाने कितना होगा सस्ता?

 

सांकेतिक तस्वीर


नई दिल्लीमहंगाई ने देशभर लोगों की कमर तोड़ रखी है. पेट्रोल-डीजल से लेकर आम घरों में होने वालों सामान के दाम भी लागातर आसमान छू रहे हैं. ऐसे में पेट्रोल-डीजल पर तो केंद्र सरकार ने राहत दी लेकिन बाकि रोज़मर्रा के सामान में अभी लोगों को राहत नहीं है. लेकिन आने वाले दिनों में केंद्र सरकार खाने-पीने के दाम कटौती कर राहत दे सकती है. 


भारत सरकार ने मंगलवार को एक अहम फैसला किया हैसरकार ने सालाना 20-20 लाख टन कच्चे सोयाबीन और सूरजमुखी तेल के आयात पर सीमा शुल्क और कृषि अवसंरचना उपकर को मार्च, 2024 तक हटाने की घोषणा की हैवित्त मंत्रालय की तरफ से जारी अधिसूचना के अनुसार सालाना 20 लाख टन कच्चे सोयाबीन और सूरजमुखी तेल पर वित्त वर्ष 2022-23 और 2023-24 में आयात शुल्क नहीं लगाया जाएगा.


सरकार का मानना है कि आयात शुल्क में इस छूट से घरेलू कीमतों में नरमी आएगी और मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने में मदद मिलेगीकेंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसीने एक ट्वीट में लिखा, ‘‘यह निर्णय उपभोक्ताओं को महत्वपूर्ण राहत प्रदान करेगा.''

इसका मतलब है कि 31 मार्च, 2024 तक कुल 80 लाख टन कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी तेल का शुल्क मुक्त आयात किया जा सकेगाइससे घरेलू स्तर पर कीमतों को नीचे लाने में मदद मिलेगीवित्त मंत्रालय का ये फैसला 25 मई से लागू किया जायेगा.

ये फैसला ऐसे वक्त पर लिया गया है जब रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से यूक्रेन से सनफ्लॉवर आयल का आयात बुरी तरह से प्रभावित हुआ हैभारत अपनी जरूरत का करीब 90% यूक्रेन और रूस से आयात करता हैपिछले दो महीनों से भारतीय कंपनियां सनफ्लॉवर आयल के आयात के लिए नए देश और बाजार की तलाश कर रही है.

वित्त मंत्रालय के मुताबिक इस फैसले से भारत में सस्ते में अंतराष्ट्रीय बाजार से क्रूड सोयाबीन ऑयल और क्रूड सनफ्लावर सीड ऑयल का आयात संभव हो सकेगाइससे कीमतों को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी और उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी.

इससे पहले सोमवार से ही इंडोनेशिया सरकार ने पाम ऑयल के निर्यात पर प्रतिबंध हटा लिया थाइसके बाद भारत के कई शहरों में खाने-पीने के तेल की कीमतों में मामूली गिरावट दर्ज हुई है.

सॉल्वैट एक्सट्रैक्टर्स ऑफ इंडिया (एसईएके कार्यकारी निदेशक बी वी मेहता ने कहा कि सरकार के इस फैसले से सोयाबीन तेल के दाम तीन रुपये प्रति लीटर तक नीचे आएंगे.

सरकार ने 20-20 लाख टन कच्चे सोयाबीन और सूरजमुखी तेलों के लिए शुल्क दर कोटा (टीआरक्यूसंबंधी अधिसूचना जारी कर दी हैमेहता ने कहा कि टीआरक्यू के तहत सीमा शुल्क और 5.5 प्रतिशत का कृषि अवसंरचना कर हट जाएगा.

आपको बता दें कि सरकार ने तेल की बढ़ती कीमतों के बीच पिछले सप्ताह पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क घटाया थासाथ ही इस्पात और प्लास्टिक उद्योग में इस्तेमाल होने वाले कुछ कच्चे माल पर आयात शुल्क भी हटाने का निर्णय लिया था.


Next Post Previous Post